Wednesday, December 12, 2018

IPO में निवेश। | IPO क्या है और IPO में निवेश कैसे करे ?

नमस्कार दोस्तों। आपका SIP TO LUMP SUM में स्वागत है। 

आज हम जानेंगे की 'IPO क्या होता है और IPO में निवेश कैसे करे?'

क्या होता है IPO ?




जब भी कोई कंपनी अपने शेयर स्टॉक एक्सचेंज में लाना चाहती हो तो उन्हें अपनी कंपनी के शेयर निवेशकों को सीधा बेचने होते है। 

इसी प्रक्रिया को IPO यानी Initial Public Offering कहते है।

किसीभी कंपनी के आईपीओ से जुडी जानकारी आपको स्टॉक एक्सचैंजेस NSE और BSE से मिल जाएगी।

जैसे की उस का लघुतम और अधिकतम दाम तथा लघुतम कितने शेयर के लिए आवेदन कर सकते है।

IPO की प्रक्रिया:


आईपीओ की पूरी प्रक्रिया 5 से 7 दिन की होती है 

जिसमे पहले 3 दिन निवेशको को आवेदन करने के लिए दिए जाते है 

उसके बाद आवंटन (Allotment) की प्रक्रिया शुरू होती है। 

जिसमे ये तय किया जाता है की किन किन निवेशकों को कितने शेयर मिलेंगे। 

उसके बाद आवंटन जारी किया जाता है। 

जिस से निवेशकों को पता चलता है की उन्हें शेयर्स मिले है या नहीं और यदि मिले है तो कितने मिले है।

इस के एक दिन बाद उस कंपनी के शेयर की लिस्टिंग होती है।

जहाँ पर निवेशक उस कंपनी के शेयर स्टॉक एक्सचेंज पर बेच या फिर खरीद सकते है।

अगर लम्बे समय के लिए निवेशीत रहना चाहते है तो रह सकते है।

IPO में निवेश।(Investing in an IPO):

आईपीओ में निवेश करने और स्टॉक मार्केट में निवेश करने में ज़्यादा फर्क नहीं होता है।
आईपीओ में हम शेयर सीधा कंपनी के पास से खरीद ते है और स्टॉक मार्केट में हम शेयर दूसरे निवेशकों से खरीदते है ।
आईपीओ में प्राइस बैंड निश्चित होता है और स्टॉक मार्केट में शेयर का दाम बढ़ता-घटता रहता है।
आईपीओ हर रोज़ नहीं आता लेकिन हम स्टॉक एक्सचेज से कभी भी शेयर खरीद या बेच सकते है।

IPO में निवेश करने के लाभ एवं नुकसान।

लाभ:


1) IPO के ज़रिए निवेश करने पर हम सीधा कंपनी से ही शेयर खरीद सकते है।
2) कभी कभी ऐसा भी हो सकता है कि आपको अपने निवेश किए हुए पैसे का 10,15,25 या फिर 100 प्रतिशत का रिटर्न भी लिस्टिंग के दौरान मिल सकता है।

3) जब भी हम आईपीओ के द्वारा शेयर खरीदते है तब हमें शेयर खरीदने का ब्रोकरेज नहीं देना पड़ता सिर्फ बेचने का ही देना पड़ता है। 

जब की स्टॉक एक्सचेंज से खरीद ने और बेचने दो नो का ब्रोकरेज देना पड़ता है। 

नुकसान:

1) हम सीधा कंपनी के पास से शेयर खरीदते है इस लिए ज्यादातर कंपनी वाले शेयर को हमे मंहगा ही बेचते है।
2) यदि लिस्टिंग के दौरान ऑफर हुए प्राइस से नीचे लिस्ट हो तो हमे नुकसान भी झेलना पड़ सकता है ।
3) आईपीओ के द्वारा शेयर्स के लिए आवेदन करने पर आपको शेयर्स मिलेंगे या नहीं ये कितने निवेशकों ने आवेदन किया है उस पर निर्भर करता है।

IPO में निवेश करने के तरीके।


1) ब्रोकर के पास आईपीओ का फॉर्म भर के आवेदन:



यह तरीका पुराना तरीका है जिस के लिए आपको अपने ब्रोकर के पास जा कर आईपीओ का फॉर्म भरना पड़ता है और फिर उसे बैंक में जमा करना पड़ता है।

2) (ASBA) के द्वारा:

तकनिकी विकास के कारण अब हम अपने घर से ही अपने बैंक के नेट बैंकिंग (Net Banking) से भी आईपीओ में आवेदन कर सकते है।

(ASBA यानि (Application Supported By Blocked Amount) एक सुविधा है।

जिस से की आप अपने बैंक अकाउंट में जमा राशि में से ही आईपीओ के लिए आवेदन कर सकते है।
जितनी राशि के शेयर का आवेदन आपने किया होगा उतनी राशि आपके बैंक अकाउंट में से तब तक ब्लॉक हो जाएगी जब तक उस आईपीओ का आवंटन नहीं हो जाता।
अगर आपको शेयर मिलेंगे तो आपकी ब्लॉक्ड राशि को काट लिया जाएगा और नहीं मिलेंगे तो वो अनब्लॉक हो जाएगी।

जिस के बाद आप उस राशि का पूरा उपयोग कर सकते है।)
और पढ़े : शेयर बाजार क्या होता है और शेयर बाजार में निवेश कैसे करे ?

तरीका :


  • अपने नेट बैंकिंग में Login करे।
  • वहा पर Online IPO या फिर ASBA का विकल्प मिलेगा उस पर क्लिक करे।
  • अब आपके सामने अभी चल रहे आईपीओ की सूचि होगी जिसमे से जिसमे आप आवेदन करना चाहते है उस पर क्लिक करे।
  • अब आपको शेयर का दाम और शेयर की संख्या भरने के लिए कहा जाएगा। आप तय किया गया दाम और आप जितने शेयर का आवेदन करना चाहते है उतनी संख्या भर दे और उस आवेदन को जमा कर दे।
  • आपके सामने कन्फर्मेशन आ जाएगा की आपने कितने शेयर का आवेदन कितने दाम पर किया है इस के ज़रिए ये पता चलता है की आपकी आवेदन हो गया है।
  • अब जब भी उस कंपनी के शेयर का आवंटन करेगी तो आपको सन्देश के ज़रिए पता चल जाएगा की आप को शेयर मिले है या नहीं।

Note: ज़्यादातर निवेशक IPO में निवेश करने के बजाए उसे लिस्टिंग के दौरान बेच देते है जो किसीभी लिहाज़ से गलत नहीं है।

जो निवेश नहीं है लेकिन आप वो भी कर सकते है।
लेकिन यह अवशय ध्यान रखे की कौनसा आईपीओ किस दाम पर लिस्ट होगा वो 100 प्रतिशत तो किसीको नहीं पता होता इस लिए वहा पर नुकशान भी हो सकता है।
इस लिए आप जो भी करे सोच समझ कर करे।
उम्मीद करता हु दोस्तों की आपको IPO के बारे में सब कुछ समझ में आ गया होगा। यदि फिर भी आप को कुछ समझने में दिक्कत आयी होतो Comment Box में हमें बताए।

हम आपको समझाने का पूरा प्रयास करेंगे।

दोस्तों यदि हमारी ये जानकारी से आपने कुछ अच्छा सीखा होतो हमारे Facebook page SIP TO LUMP SUM को Like करना ना भूले।

आपका एक भी Like हमें आगे बढ़ने में मदद कर सकता है।

और भी पढ़े : 


Share Capital in Hindi 


Nifty और Sensex क्या है ? 


Regular Broker vs Discount Broker - हम कौनसा चुने ? 


शेयर बाजार से कम जोखिम लेकर पैसा कैसे कमाए ? 


Disqus Comments