Tuesday, October 15, 2019

Treasury Bills Meaning क्या होता है ?


Treasury Bills Meaning.

दोस्तों हम जानते है की शेयर बाज़ार में अच्छी तरह लम्बे समय के लिए निवेश किया जाए तो उस से हमें अच्छा रिटर्न मिलता है।

लेकिन ऐसा भी नहीं है की शेयर बाज़ार में जोखिम नहीं है।

और ज्यादातर सामान्य निवेशक खुद अच्छे शेयर चुनकर लम्बे समय के लिए निवेश नहीं कर पाते।

क्युकी उनके पास अपने व्यापार या नौकरी से समय निकाल कर अच्छे शेयर चुनने की फुर्सद नहीं होती।

इसके अलावा उनके पास Fundamental Analysis का ज्ञान भी नहीं होता जिस से वह अच्छे शेयर चुन सके।

इस लिए अगर ऐसे लोग बिना जानकारी के शेयर बाज़ार में निवेश करेंगे तो उन्हें नुकसान हो सकता है।

ऐसे में उन लोगो के लीए शेयर बाज़ार से अच्छा निवेश विकल्प Fixed Income देने वाले निवेश हो सकते है।

जैसे FD और RD.

वैसे तो FD एक सुरक्षित निवेश है, लेकिन इसके अलावा भी कई ऐसे विकल्प है, जो FD से भी ज्यादा सुरक्षित होते है।

और उनमे आम तौर पर FD से ज्यादा ब्याज भी मिलता है, जैसे T-Bills और Bonds.

Bonds के बारे में तो हम पहले ही यहाँ पर जान चुके है।

इस लिए आज हम T-Bills के बारे में जानेंगे।

तो आइए जानते है,

क्या है Treasury Bills Meaning ?


Treasury Bills या T-Bills एक निवेश के विकल्प है।

T-bills सरकार RBI की मदद से जारी करती है।

यह वैसा ही है, जैसे हमें जब पैसो की जरुरत होती है, तब हम Bank से Loan ले लेते है और इसके बदले में Bank को ब्याज देते है।

वैसे ही जब सरकार को 1 साल से कम समय के लिए पैसो की जरुरत होती है, तब वह T-bills जारी करती है।

जिसमे निवेश करने वाले को एक निश्चित प्रतिशत का ब्याज मिलता है।

हालाकी T-Bills में मिलने वाला यह ब्याज Bonds में मिलने वाले ब्याज की तरह सीधा नहीं मिलता।

तो फिर

कैसे मिलता है ब्याज़ ?


आम तौर पर T-bills को उसकी Face Value या PAR Value से Discount पर जारी किया जाता है।

फिर जब उसकी अवधि ख़त्म हो जाती है, तब उसे उसकी Face Value पर RBI द्वारा Redeem किया जाता है।

जैसे आपको 100 रुपए की Face Value के T-bills 97.5 रुपए में मिलेंगे।

लेकिन जब इसकी समय अवधि ख़त्म होगी तो इसके बदले में आपको 100 रुपए मिलेंगे।

जिस से इन दोनों के बिच की राशि (100 - 97.5 = 2.50 रुपए) आपका ब्याज होगी।

इस तरह Treasury Bills के निवेशकों को ब्याज मिलता है।

कितने समय के लिए निवेश करना होता है ?


भारत में मुख्य तीन अवधि के T-bills जारी किए जाते है।

इनमे 91 दिन के T-bills, 182 दिन के T-bills और 364 दिन के T-bills सामिल है।

91 दिन के T-bills में 91 दिन के बाद आपको उस T-bill की Face Value पर आपके पैसे आपके बैंक में मिल जाते है।

ऐसे ही 182 दिन और 364 दिन की अवधि ख़त्म होने पर पैसा आपको मिल जाता है।

T-bills कैसे ख़रीदे जा सकते है ?


T-bills को सरकार RBI द्वारा जारी करती है।

RBI अपनी Website पर इसके लिए notification देती है।

इसके बाद जो लोग इसमें आवेदन करना चाहते है, वह अपनी आवेदन के Units लिख कर आवेदन कर सकते है।

सालो पहले सामान्य निवेशक T-bills में सीधे निवेश नहीं कर सकते थे।

लेकिन 2016 के बाद से सामान्य निवेशक भी इसमें निवेश कर सकते है।

और पिछले साल ही NSE ने भी T-bills और Bond जैसी Government Securities को खरीदने के लिए एक App (NSE goBID App) launch की है।

इसके आलावा अबतो Zerodha के द्वारा भी सामान्य निवेशक अपने लिए T-bills का आवेदन कर सकता है।

आवेदन का समय ख़त्म हो जाने के बाद जिन दामो पर आवेदन किया गया है, उन सब का Weighted Average दाम निकाला जाता है।

फिर उसी दाम पर निवेशकों को T-bills जारी किए जाते है।

यह T-bills निवेशकों के Demat Account में जमा कर दिए जाते है।

इसके बाद IPO के शेयर की तरह इन T-bills को भी Stock Exchange पर list कर दिया जाता है।

जिस से जो लोग इसे समय से पहले बेचना चाहते हो वह लोग Stock Exchange पर बेच सकते है।

T-bills में Tax कितना लगता है ?


T-bills की अवधि 1 साल से कम की होने से इसके द्वारा मिला गया ब्याज Short Term Capital Gain माना जाता है।

इस लिए इस ब्याज पर निवेशक को उसकी Tax Slab के अनुसार Tax देना पड़ता है।

निष्कर्ष :


तो दोस्तों आज हमने समझा Treasury Bills Meaning क्या है और किस

उम्मीद करता हु आपके लिए यह जानकारी उपयोगी साबित होगी।

शेयर बाज़ारम्यूच्यूअल फंडस और निवेश के बारे में ऐसी ही और जानकारी सीधे अपने Email पर free में पाए।

इसके लिए हमारे Free Weekly Newsletter को तुरंत ही Subscribe कर ले।

धन्यवाद।



Comments