Saturday, October 19, 2019

Block Deal और Bulk Deal क्या होती है।


NSE Block Deal.

दोस्तों आपने कई बार किसी Business News Channel पर Block Deal और Bulk Deal के बारे में सुना होगा।

यह भी देखा होगा की जैसे ही इसके बारे में खबर आती है उस शेयर के दाम में अचानक बड़ा Movement होता है।

तो क्या है यह Block Deal और Bulk Deal ?

और ऐसा क्या है इसमें जिससे शेयर में इतना ज्यादा movement होता है ?

तो आज हम उन दोनों के बारे में ही जानेंगे।

आइए पहले जानते है की,

Block Deal क्या होती है ?


यह एक single Transaction होता है, जो कम से कम 5 लाख शेयर या 5 करोड़ की value के शेयर की खरीद बिक्री का होता है।

इतने शेयर किसी छोटे निवेशक के पास नहीं होते इस लिए यह Transaction किसी बड़े निवेशक या Institutions के बिच होती है।

यह Deal सुबह 9:15 के बाज़ार खुलने से लेकर 9:50 तक होती है।

इन 35 minutes के अंदर ही यह deal सामान्य Trading window से अलग window में की जाती है।

जिस Trading software या App से हम Trading करते है उसमे यह नहीं दिखती है।

लेकिन किस शेयर में Block Deal हुई, कितने दाम पर हुई , किसने शेयर ख़रीदे और किसने शेयर बेचे यह सब जानकारी Stock Exchange को दी जाती है।

यह Deal करवाने वाले Broker की ये जिम्मेदारी है की वह इस से जुडी जानकारी Stock Exchange को दे।

इस लिए यह जानकारी हम Stock Exchange की Website पर से ले सकते है।

जैसे अगर NSE पर कोई block deal हुई है, तो उसकी जानकारी NSE की Website पर होती है।



और अगर BSE पर कोई block deal हुई है, तो उसकी जानकारी BSE की Website पर होती है।



Block Deal में किया गया Transaction reverse नहीं किया जा सकता।

यानी अगर किसी निवेशक ने Block Deal के जरिए 5 लाख शेयर बेचे है, तो उसी वक्त वो उन शेयर को वापस नहीं खरीद सकता।

अब जानते है की,

Bulk Deal क्या होती है ?


अगर किसी deal में कंपनी की 0.5 % से ज्यादा हिस्सेदारी को ख़रीदा या बेचा जाता है, तो उसे Bulk Deal कहते है।

Bulk Deal किसी अलग Trading Window पर नहीं बल्की सामान्य Trading Window पर ही होती है।

इस लिए हम किसी Bulk Deal के Orders को देख सकते है।

सामान्य Trading Window में होने से यह सुबह 9:15 से लेकर बाज़ार ख़त्म होने तक कभी भी हो सकती है।

अगर कोई Bulk Deal एक ही order में होती है, तो order का execution होते ही उसकी जानकारी Stock Exchange को देना आवश्यक है।

लेकिन अगर यह deal एक से ज्यादा order में होती है, तो इसकी जानकारी Stock Exchange को यह deal ख़त्म होने के 1 घंटे में देनी आवश्यक है।

Block Deal की तरह ही Bulk Deal की जानकारी भी हम Stock Exchanges पर से ले सकते है।

NSE पर से Bulk Deal की जानकारी यहाँ से ले सकते है।



और BSE पर से Bulk Deal की जानकारी यहाँ से ले सकते है।



इन Deal होने की खबर से शेयर में इतना Movement क्यु होता है ?


Bulk Deal तो बड़ी Quantity में होती है, यह भी एक कारण है, जिस से शेयर में इतना movement होता है।

इसके अलावा Bulk Deal और Block Deal होने की खबर सुन कर बहुत से लोगो को यह लगता है की उस शेयर का दाम बढेगा।

इस लिए वह उस शेयर को खरीदने और बेचने लग जाते है।

जिस से उस शेयर में बहुत बड़ा movement होता है।

क्या हमें किसी शेयर को Bulk Deal या Block Deal होने से खरीद लेना चाहिए ?


जी नहीं।

सिर्फ किसी शेयर में Block Deal या Bulk Deal हुई है सिर्फ इसी लिए उस शेयर को खरीदना सही नहीं है।

हमें उस शेयर के Fundamentals को और खरीदने और बेचने वाले निवेशकों को भी देखना चाहिए।

और किस दाम पर deal हुई है वह भी देखना चाहिए।

निष्कर्ष :


दोस्तों आज हमने Block Deal और Bulk Deal के बारे में समझा।

उम्मीद करता हु आपके लिए यह जानकारी उपयोगी साबित होगी।

शेयर बाज़ारम्यूच्यूअल फंडस और अन्य निवेश के बारे में ऐसी ही जानकारी सीधे अपने Email पर free में पाए।

इसके लिए हमारे Free Weekly Newsletter को तुरंत ही Subscribe कर ले।

धन्यवाद।



Comments