Wednesday, September 11, 2019

Split Meaning in Hindi - Stock Split क्या है?

Split Meaning in Hindi.

दोस्तों अब तक हम Fundamental Analysis की Series में ज्यादातर सभी Ratio के बारे में जान चुके है।

इस लिए आज हम एक Corporate Action के बारे में जानेंगे।

और वह Corporate Action है, Stock Split .

हम जानेंगे Stock Split क्या है ? Stock Split कंपनी क्यु करती है और Stock Split से हमारे निवेश पर क्या फर्क पड़ता है ?

तो आइए पहले जानते है, की

स्टॉक स्प्लिट क्या है ? (Stock Split Meaning in Hindi)


Split का मतलब है, बाटना या फिर टुकड़े करना।

वैसे ही अगर हम Stock Split की बात करे तो उसका मतलब है, Stock यानी शेयर को टुकड़ो में बाटना।

शेयर बाजार में बहुत सी कंपनीओ ने अपने शेयर जारी किए हुए है।

जिसमे से कई कंपनियां कई बार Stock Split लाती रहती है।

Stock Split के द्वारा यह कंपनियां शेयर बाजार में जारी किए हुए अपने हर एक शेयर को कुछ टुकड़ो में विभाजित कर देती है।

यह टुकड़े कितने भी हो सकते है, जैसे 2,3,4 आदी।

जिस से बाज़ार में उसके Share पहले से ज्यादा हो जाते है।

तो क्या उस शेयर के दाम में कोई फर्क नहीं पड़ता है ?


जी ऐसा नहीं है। Stock Split का उस Share की Price पर भी असर पड़ता है।

कंपनी जिस तरह अपने शेयर को विभाजित करेगी उसी तरह ही उस शेयर का दाम भी बदल जाएगा।

जैसे अगर कोई कंपनी अपने हर एक शेयर को दो हिस्सों में बाटती है, तो उस शेयर का दाम भी पहले से आधा हो जाता है।

उदाहरण के तौर पर कंपनी XYZ ने अपने 1000 शेयर, बाजार में जारी किए है, जिस हर एक शेयर की किमत 500 रुपए है।

अब वह कंपनी Stock Split लाती है, जिसमे वो अपने हर एक शेयर को दो हिस्सों में बाटती है।

इसका मतलब Stock Split हो जाने के बाद बाज़ार में उसके 2000 शेयर हो जाएंगे।

और साथ ही अब उस हर एक शेयर की किमत भी 500 में से 250 रुपए हो जाएगी।

जिस से कंपनी का Market Capitalization में कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

Market Capitalization का मतलब है, कंपनी की Market में किमत।

यानी अगर हमें कंपनी के बाज़ार में जारी किए हुए सभी शेयर खरीदने हो तो कितना पैसा चुकाना पड़ेगा ?

कंपनी का Market Capitalization हम उसे जारी किए हुए सभी शेयर की संख्या को एक शेयर के दाम से गुणा कर के जान सकते है।


इस तरह Stock Split के उस एक शेयर का दाम भी बदल जाता है।

और इसी वजह से कंपनी का Market Capitalization उतना ही रहता है।

तो कंपनियां अपने स्टॉक स्प्लिट क्यु करती है ? (Why do Companies Split their Stocks ?)


अगर बहुत सालो बाद भी Stock Split न किया जाए तो ऐसी कंपनीओ के एक शेयर का दाम बहुत बढ़ जाता है।

जैसे MRF जो Tyre बनाने वाली कंपनी है, उसके एक शेयर का दाम आज की तारीख में 60 हजार रुपए है।

यानी अगर किसी को MRF का सिर्फ एक ही शेयर खरीदना हो फिर भी उसे कम से कम 60 हजार रुपए निवेश करने पड़ेंगे।

अब इतनी बड़ी राशि हर कोई निवेश नहीं कर सकता।

क्युकी बहुत से लोगो का पूरा निवेश भी इस से कम होता है।

ऐसे में बहुत कम लोग MRF के शेयर में निवेश करेंगे।

तो फिर Trading तो बहुत कम ही लोग करेंगे जिस से MRF के शेयर में Liquidity बहुत कम ही रहेगी।

Liquidity का मतलब है, शेयर में खरीदे और बेचे जाने वाले शेयर की संख्या।

ऐसा न हो इस लिए कंपनियां Stock Split की मदद से अपने शेयर का दाम घटा देती है।

जिस से ज्यादा लोग उसके शेयर खरीदकर निवेश कर पाए।

अब हम जानते है की,

कैसे पता चले की कंपनी अपने एक शेयर के कितने टुकड़े करेगी ?


Stock Split की घोसणा करते वक्त कंपनी एक Ratio बताती है।

उसी Ratio से पता चलता है, की कंपनी अपने 1 शेयर के कितने टुकड़े करेगी।

इस Ratio को Split Ratio कहते है।

उदाहरण के तौर पर ऊपर जो हमने XYZ कंपनी का उदाहरण लिया है, उसका Split Ratio 2:1 होगा।

क्युकी उसने अपने हर एक शेयर को दो टुकड़ो में विभाजीत करने की घोसणा की है।

अब जानते है की,

हमारे निवेश पर क्या असर होगा ? (Effect in our Investment)


जैसे ऊपर हमने बात की, Stock Split के अनुसार ही उस शेयर का दाम बदल जाता है।

इस वजह से हमारे Stock Split से हमारे निवेश पर कोई फर्क नहीं पड़ता।

जैसे अगर आपने Stock Split से पहले ABC कंपनी के 100 शेयर ख़रीदे होते तो

आपका कुल निवेश = 500 x 100 = 50 हज़ार रुपए होता।

और Stock Split के बाद

आपका कुल निवेश = 1000 x 50 = 50 हज़ार ही होता।

इस तरह Stock Split सिर्फ शेयर के दाम को कम करने के लिए की गई प्रक्रिया ही है।

जिस से हमारे निवेश पर कोई असर नहीं होता।

तो दोस्तों यह थी Stock Split Meaning in Hindi के बारे में जानकारी।

उम्मीद करता हु यह जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी।

ऐसी ही जानकारी Free में सीधे अपने Email पर पाने के लिए हमारे Free Weekly Newsletter को तुरंत ही Subscribe कर ले।

धन्यवाद।

Disclaimer : यहाँ पर मैंने MRF का उदाहरण आपको समझाने के लिए ही लिया है, में आपको इसमें निवेश करने की सलाह नहीं दे रहा हु।

कोई भी निवेश अपने ज्ञान या अपने वित्तीय सलाहकार की सलाह पर ही करे।



Comments