Saturday, September 21, 2019

Degree of Financial Leverage क्या है ?

Degree of Financial Leverage.

पिछली Post में हमने Financial Leverage के बारे में जाना था।

आज हम Degree of Financial Leverage के बारे में जानेंगे।

Degree of Financial Leverage क्या है ?


हम यह जानते है, की EBIT का मतलब है, कंपनी का ब्याज़ और टैक्स देने से पहले का मुनाफा।

और हम यह भी जानते है, की PBT का मतलब है, कंपनी का टैक्स देने से पहले का मुनाफा।

Degree of Financial Leverage हमें यह बताता है, की कंपनी के EBIT में 1 % का बदलाव होने पर PBT पर कितना बदलाव होगा।

यानी अगर कंपनी का EBIT 100 में से 101 होगा तो उसका PBT 35 में से कितना होगा ?

यह Ratio जितना ज्यादा होगा उतना ही ज्यादा कंपनी की कमाई Volatile रहेगी।

और कंपनी में उतना ही ज्यादा Risk बढ़ेगा।

DFL का Formula क्या है ?


किसी भी कंपनी का Degree of Financial Leverage उसके PBT में हुए बदलाव को उसके EBIT में हुए बदलाव से विभाजित करने पर मिलता है।

Degree Of Financial Leverage का उदाहरण :


Company A के लिए दो साल के EBIT और PBT की जानकारी निचे दि गई है।
Year20172018Change in %
EBIT100001100010
INTEREST(6000)(6000)0
PBT4000500025
TAX(@ 30 %)(1200)(1500)25
PAT2800350025
जिसमे से हम देख सकते है, की साल 2017 के मुकाबले 2018 में EBIT 10% बढ़ा है।
और PBT पहले साल के मुकाबले 25 % बढ़ा है।

इस लिए इस Company A के लिए

DFL = (25 % / 10% ) = 2.5 times होगा।

यानी अगर कंपनी का EBIT 1 % बढ़ेगा तब उसका PBT 2.5 % से बढ़ेगा।

एक निवेशक के लिए Degree of Financial Leverage कैसे उपयोगी है ?


एक निवेशक के तौर पर भी हमें इस DFL को जानना जरुरी है।

क्युकी यह हमें बताता है, की कंपनी के क़र्ज़ लेने से उसका Profit कितना बढ़ता है।

और जिस तरह इस क़र्ज़ की वजह से Profit बढ़ता है, उसी तरह नुकसान भी बढ़ सकता है।

जैसे ऊपर हमने Company A का DFL 2.5 times पाया।

तो जिस तरह उसके EBIT 1 % बढ़ने से उसका PBT 2.5 % बढ़ता है, वैसे ही कम भी हो सकता है।

और जब कभी व्यापार में मंदी की वजह से उसका EBIT 10 % कम हो गया तो उसका PBT 25% कम भी हो जाएगा।

इस लिए ज्यादा DFL के होने से कंपनी का Risk भी बढ़ता है।

और इस से कंपनी में निवेश करने वाले निवेशकों का Risk भी बढ़ सकता है।

इस लिए हमें निवेश से पहले यह जरूर देखना चाहिए की कंपनी का DFL कितना है।

ताकी हम बहुत ज्यादा DFL वाली कंपनीओ से दूर रह सकते है, और हमारे निवेश का Risk कम कर सकते है।

निष्कर्ष :


दोस्तों आज हमने सीखा की Degree of Financial Leverage क्या है ?

और एक निवेशक के लिए यह कैसे उपयोगी है ?

उम्मीद करता हु आपके लिए यह जानकारी उपयोगी साबित होगी।

अब पाए शेयर बाज़ार, Mutual Funds और अन्य निवेश से जुडी जानकारी सीधे Free में सीधे अपने Email पर पाए।

इसके लिए हमारे Free Weekly Newsletter को तुरंत ही Subscribe कर ले।

धन्यवाद।



Comments