Meaning of StockBroker - स्टॉक ब्रोकर क्या होता है?

Meaning of StockBroker.

पिछली पोस्ट में हमने Trading Account के बारे में जाना था।

आज इस पोस्ट में हम StockBroker के बारे में जानेंगे।

हम बात करेंगे की स्टॉक ब्रोकर क्या होता है ? , एक स्टॉक ब्रोकर का क्या काम है और स्टॉक ब्रोकर के प्रकार क्या है?

तो आइए एक एक कर के सब जानते है।

स्टॉक ब्रोकर क्या होता है ? (Meaning of StockBroker):


एक स्टॉक ब्रोकर स्टॉक एक्सचेंज जैसे NSE यानि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज और BSE यानि बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सदस्य होता है।

कोई भी स्टॉक ब्रोकर अपने client यानि कोई निवेशक या ट्रेडर तथा स्टॉक एक्सचेंज के बिच की कड़ी की तरह होता है।

वह निवेशक और ट्रेडर को स्टॉक एक्सचेंज पर शेयर खरीदने और बेचने की पूरी व्यवस्था करता है।

स्टॉक ब्रोकर का काम क्या है ?


शेयर बाजार में निवेश या ट्रेडिंग करने के लिए किसी भी व्यक्ति को ट्रेडिंग और डीमैट खाता खुलवाने की जरुरत होती है।

एक ब्रोकर यह दोनों खाते खोल कर निवेश और ट्रेडिंग करने की सुविधा देता है।

कई Banks जैसे SBI और HDFC भी एक ब्रोकर की तरह रजिस्टर्ड होते है।

ऐसी बैंक आपको Bank Account, Demat Account और Trading Account तीनो खाते एक साथ खुलवाने की सुविधा देती है।

नई टेक्नोलॉजी की वजह से अब सभी ब्रोकर अपने client को सीधा खरीद और बिक्री का प्लेटफॉर्म देती है।

इन प्लेटफॉर्म की वजह से अब लोगो को ब्रोकर को कॉल कर के अपना ऑर्डर देने की जरुरत नहीं पड़ती।

बल्कि वह खुद सिर्फ अपने मोबाइल से भी अपना शेयर खरीद बिक्री का ऑर्डर सीधे स्टॉक एक्सचेंज को भेज सकते है।

इन सभी प्लेटफॉर्म की वजह से ही आज शेयर बाजार में हर सेकंड से भी कम समय में शेयर के दाम बदलते रहते है।

इन सारी सुविधाओं के बदले में वह हर एक खरीद बिक्री पर कुछ ब्रोकरेज लेता है।

अलग अलग तरह के ब्रोकर अलग अलग ब्रोकरेज चार्ज करते है।

स्टॉक ब्रोकर के प्रकार (Types of StockBroker) :


स्टॉक ब्रोकर द्वारा दी जाने वाली सुविधा और ब्रोकरेज लेने के अनुसार उसके दो प्रकार है।

1) Full Service या Regular Broker :


इस प्रकार के ब्रोकर पुराने तरह के ब्रोकर है।Meaning of StockBroker
यह ब्रोकर खरीद बिक्री की सुविधा के साथ साथ निवेशको और ट्रेडरो को और भी बहुत सी सेवाए देते है।

जैसे,
  • निवेश या ट्रेडिंग की सलाह देना ,
  • IPO भरने की सुविधा और उसके बारे में सलाह देना ,
  • शेयर बाजार के संबंध में आने वाली खबरों के बारे में अवगत करवाना ,
  • कॉल कर के शेयर की खरीद-बिक्री का ऑर्डर देने की सुविधा देना ,
  • कि जाने वाली खरीद बिक्री के Contract Note की कॉपी देना।
और भी बहुत सुविधाए देता है।

यह सब सुविधा देने के कारण इस तरह के ब्रोकर का खर्च थोड़ा ज्यादा होता है।

इस वजह से इस तरह के ब्रोकर अपने क्लाइंट (निवेशको और ट्रेडरो) से ज्यादा ब्रोकरेज लेते है।

2) Discount StockBroker : Meaning of StockBroker


डिस्काउंट ब्रोकर के नाम से ही पता चलता है, की वह regular broker से काफी कम ब्रोकरेज लेते है।

जैसे Upstox जो Intraday Trading पर कुल टर्नओवर के 0.05 % या फिर हर एक ऑर्डर के 20 रूपए दोनों में से जो कम हो उतना ब्रोकरेज लेता है। जबकि डिलीवरी ले कर ट्रेडिंग करने पर तो 0 ब्रोकरेज लेते है। 

इनका मुख्य उद्देश्य निवेशकों और ट्रैडरो को कम से कम ब्रोकरेज पर खरीद बिक्री करने की सुविधा देना होता है।

इस वजह से ऐसे ब्रोकर निवेशको को सिर्फ खरीद  के लिए जरुरी सुविधाए ही देते है .

जैसे,
  • ऐसे ब्रोकर निवेश या ट्रेडिंग की सलाह नहीं देते।
  • IPO के बारे में सलाह या सुविधा भी नहीं देते।
  • कॉल कर के ट्रेडिंग की सुविधा भी नहीं देते और देते है तो उसके लिए अलग चार्ज लेते है।
  • कागज़ पर Contract Note चाहिए तो इसके लिए भी अलग चार्ज लेते है।
  • हलाकि ईमेल पर Electronic Contract Note मिलता है।
यह सभी सुविधाए न देने के कारण उनका खर्च Regular Broker से बहुत कम हो जाता है।

और इस वजह से वह बहुत कम ब्रोकरेज में शेयर की खरीद बिक्री करने की सुविधा देते है।

दोनों तरह के ब्रोकर के अपने अपने लाभ और हानी है।

आप अपनी जरुरत के हिसाब से अपने लिए इन दोनों में से अपने लिए ब्रोकर चुन सकते है।

तो दोस्तों यह था स्टॉक ब्रोकर का मतलब (Meaning of StockBroker).

उम्मीद करता हु की आपको StockBroker के बारे में सब समझ आ गया होगा। 

दोस्तों अभी Upstox जो की एक Discount Broker है, उसमे Trading और Demat अकाउंट खुलवाने के लिए बहुत अच्छा offer चल रहा है, जिसमे आपको 1500 से unlimited तक की ब्रोकरेज क्रेडिट मिलेगी । 

तो जल्दी करिए और खुलवाए अपना Trading और Demat Account खुलवा सकते है 



Leave Your Comments Here :


Comments