Equity Meaning in Hindi - इक्विटी क्या है ?

Equity Meaning in Hindi

इस से पहले हम Assets और Liabilities तथा उनके प्रकार के बारे में जान चुके है। 

आज हम Balance Sheet में लिखी जाने वाली एक और महत्व पूर्ण चीज़ के बारे में जानेंगे और वह चीज़ है, Equity.

हम जानेंगे की Equity क्या होती है ? और एक कंपनी के व्यापार के अनुसार उसकी Equity कैसे बढ़ती है।

और उस से उसके शेयर धारक को क्या लाभ होता है।

यहले जान लेते है की ,


इक्विटी क्या होती है ? (Equity Meaning in Hindi)



// अगर आप Equity के बारे में वीडियो के माध्यम से जानकारी चाहते है, तो True Investing के निचे दिए गए वीडियो के द्वारा ले सकते है। //


Equity का सीधी और सरल भाषा में मतलब है, कंपनी में मालिक और निवेशक का कंपनी में पैसा।

इसे कंपनी में मालिक और निवेशक की हिस्सेदारी भी कह सकते है।

जैसे अगर किसी कंपनी में मालिक ने अपने 60 लाख रुपए लगाए है, और कंपनी की कुल कीमत 1 करोड़ रुपए है।


और बाकि की राशि के लिए क़र्ज़ लिया गया है, तो उस कंपनी में मालिक की हिस्से दारी 60 % है, जिसे Equity कहेंगे।

अब अगर मालिक 40 लाख के क़र्ज़ के बजाए किसी रिश्ते दार से Partnership कर के उससे 40 लाख रुपए ले तो कंपनी की Equity 100 % होगी।

जिसमे Promoter यानी मालिक की हिस्सेदारी 60 % और दूसरे Partner की हिस्सेदारी 40 % होगी।

Equity दो चीज़ो से बनती है :


किसी भी कंपनी की Equity दो चीज़ो से बनती है,

1) Share Capital और 2) Reserves and Surplus




1) Share Capital (शेयर कैपिटल) :


Share Capital वह पैसा है, जो कंपनी के शेयर उसकी Face Value पर बेचकर जुटाए जाते है।

जब भी कंपनी बनाई गई होती है, तब कंपनी के एक शेयर की कीमत जो तय होती है, उसे Face Value कहते है।

इसके ऊपर की शेयर की कीमत को प्रीमियम कहा जाता है।

2) Reserves and Surplus :


Reserve and Surplus वह पैसा है, जो कंपनी मुनाफा कमाकर इकठ्ठा करती है।


जैसे अगर कंपनी ने सभी खर्च निकाल के इस साल 10 करोड़ रुपए कमाए तो इस पैसे को कंपनी के Reserves and Surplus में रखा जाता है।

जिस से कंपनी खुद अपने व्यापार में निवेश करके कंपनी को आगे बढ़ा सके।

कई बार इस पैसे में से कुछ पैसो का उपयोग कंपनी अपने शेयर धारक को dividend देने में भी करती है।

इन दोनों चीज़ो को मिलाकर के कंपनी की Equity बनती है।


कैसे जाने किसी कंपनी Equity के बारे में?


अगर आप किसी कंपनी की Equity जान ना चाहते है, तो इसके लिए आपको कंपनी की Balance Sheet देखनी होगी।

जो हर साल कंपनियां अपने Annual Report में देती है।

Equity को आप उस कंपनी के Assets में से Liabilities को घटा कर गिन सकते है।

जैसे अगर कंपनी की Balance Sheet के अनुसार उसके पास 100 करोड़ के Assets है, और 30 करोड़ की Liabilities है, तो उसकी Equity होगी,

Equity = Total Assets - Total Liabilities

Equity = 100 करोड़ - 30 करोड़ = 70 करोड़।
ऊपर के Equation को Balance Sheet Equation भी कहते है।

Balance Sheet के बारे में और ज्यादा जानकारी हम आगे आने वाले दिनों में जानेंगे।

अब जानते है की ,

कंपनी के व्यापार के साथ उसकी Equity कैसे बढ़ती है ?


व्यापार के साथ कंपनी की Equity और उस से शेयर धारक को होने वाले लाभ के बारे में एक उदहारण से समझते है।

सोचिए की कोई एक व्यक्ति ने 50 लाख रुपए से एक कंपनी की शुरुआत की जिसमे उसने खुद की जेब से 30 लाख रुपए लगाए है।

बाकि के 20 लाख रुपए के लिए उसने बैंक से क़र्ज़ लिया है। अब उन पैसो में से उसने एक जमीन खरीदी और उस पर एक शानदार होटल बनाई।

इस स्थिति में कंपनी की इक्विटी इस तरह होगी

>br/>
Equity = Assets - Liabilities = 50 लाख - 20 लाख = 30 लाख
यानी कंपनी की Equity 30 लाख रुपए है।

अब सबकुछ उसके प्लान के मुताबिक होने से उसकी होटल का व्यापार शुरू हो जाता है।

पहले साल : Equity Meaning in Hindi


पहले साल वह कंपनी 5 लाख रुपए का मुनाफा कमाती है।

उस पैसो से कंपनी अपना क़र्ज़ कम करती है। यानी अब उस कंपनी का क़र्ज़ 15 लाख का हो जाएगा। इस स्थिति में कंपनी की इक्विटी इस तरह होगी
Equity = Assets - Liabilities = 50 लाख - 15 लाख = 35 लाख
यानी कंपनी की Equity 35 लाख रुपए है।

दूसरे साल : Equity Meaning in Hindi


अब दूसरे साल वह 20 लाख का बहुत बड़ा मुनाफा कमाती है। उन पैसो से वह अपना क़र्ज़ चूका देती है। इस स्थिति में कंपनी की इक्विटी इस तरह होगी
Equity = Assets - Liabilities = 50 लाख (hotel) + 5 लाख (cash) - 0 = 55 लाख
यानी कंपनी की Equity 55 लाख रुपए है।

और अब कंपनी पूरी तरह से उस व्यक्ति की है जिसने शुरुआत की थी यानी वह उस कंपनी का 100 % शेयर धारक है, क्युकी बैंक का पैसा तो उसने चूका दिया। (आसानी से समझाने के लिए ब्याज़ को क़र्ज़ के साथ ही जोड़ दिया है। )


इस तरह कंपनी के व्यापार के साथ उसकी Equity बढ़ती है और Equity बढ़ने से उसके शेयर धारक को अपने निवेश पर अच्छा रिटर्न मिलता है।

तो दोस्तों यह थी Equity Meaning in Hindi के बारे में जानकारी।

उम्मीद करता हु आपके लिए यह जानकारी उपयोगी साबित होगी।

दोस्तों यदि हमारी ये जानकारी से आपने कुछ अच्छा सीखा होतो हमारे Facebook page SIP TO LUMP SUM को Like करना ना भूले।



Leave Your Comments Here :


Comments