Sunday, June 30, 2019

Demat account in Hindi - डीमैट खाता क्या है ?

Demat account in Hindi.

अगर आप शेयर बाजार में निवेश या ट्रेडिंग करना चाहते है, तो सबसे पहले आपको अपना Demat और
Trading खुलवाना पड़ेगा।

यह बात आपने बहुत से लोगो के मुँह से सुनी होगी।

लेकिन हमें यह पता नहीं होता की Demat और Trading account क्या होते है।

इस लिए आज हम Demat Account के बारे में जानेंगे।

Demat का पूरा नाम (Demat full form) :


Demat का पूरा नाम है, Dematerialized. यानी जिस चीज़ को छुआ न जा सके।

डीमैट खाता क्या है ? (Demat account in hindi):


शेयर बाजार में डीमैट खाते का मतलब है, ऐसा खाता जिसमें छुई न जा सकने वाली वस्तुए रखी जाए।

यह वस्तु शेयर म्यूच्यूअल फंड या कोई प्रतिभूति हो सकती है।

ज्यादातर लोग डीमैट खाते का उपयोग शेयर को रखने के लिए ही करते है।

यहाँ से पढ़े : शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स।

यह कुछ ऐसा है, जिस तरह आपके बैंक के खाते में आपका पैसा balance के तौर पर होता है।

इस balance को सीधा तो आप छू नहीं सकते क्युकी वह सिर्फ एक electronic form में होता है।

लेकिन जब आप बैंक से पैसा नक़द निकालते है, तो उसे छुआ जा सकता है।


डीमैट खाते के कारण (Objectives of Demat account in Hindi):



भारत में 1996 के depository act के बाद से डीमैट खाते की शुरुआत हुई थी।

इसके पहले जो भी शेयर होते थे वह एक प्रमाणपत्र (certificate) के रूप में आते थे।

हर एक शेयर के लिए एक सर्टिफिकेट होता था।

यानि अगर आपके पास किसी कंपनी के 1000 शेयर होते, तो आपके पास 1000 शेयर सर्टिफिकेट होंते।

अब अगर आपके पास इस तरह की बहुत सी कंपनीओ के शेयर होते तो इतने सारे सर्टिफिकेट को संभाल कर रखना बहुत ही मुश्किल होता था।

और गुम हो जाने का तथा चोरी हो जाने का भी खतरा रहता था।

और जब आपको यह शेयर बेचने होते थे तो इसे खरीददार के नाम पर ट्रांसफर करने में भी समय लगता था।

इन सभी समस्याओ का समाधान Demat Account के रूप में निकाला गया।

डीमैट खाते के लाभ और नुकसान (Advantages and Disadvantages of Demat Account in Hindi) :


डीमैट खाते के लाभ (Advantages of a Demat Account) :


  • शेयर को चोरी नहीं किया जा सकता।
  • ट्रांसफर करने की प्रक्रिया बहुत आसान और जल्दी हो गई है।
  • कितने भी शेयर को आसानी से रखा जा सकता है।
  • सिर्फ एक शेयर भी ट्रांसफर कर सकते है।
  • ट्रांसफर करने का खर्च कम हो जाता है।
  • बोनस / स्प्लिट जैसी प्रक्रिया में शेयर का अपने आप शेयर अपने आप adjust हो जाते है।
  • गुम होजाने की समस्या नहीं रहती।
यहाँ से पढ़े : शेयर बाजार में कम जोखिम लेकर पैसा कैसे कमाए ?

डीमैट खाते के नुकसान (Disadvantages of a Demat Account):


कोई भी चीज़ के लाभ और नुकसान दोनों होते है, और डीमैट खाते के भी कुछ नुकसान है।
  • आपके ब्रोकर आपके खाते का गलत उपयोग कर सकते है,इस लिए उन पर निगाह रखनी पड़ती है।
  • जब तक डीमैट खाते में कोई भी शेयर है, तब तक उसे बंध नहीं किया जा सकता और तब तक निवेशक को इस से जुड़े चार्ज देने पड़ेंगे।
दोस्तों यह था Demat account in Hindi.उम्मीद करता हु आपको इसके बारे में समझ आ गया होगा।

इसी तरह की जानकारी अपने ईमेल पर free में पाने के लिए यहाँ से जरूर Subscribe करे।



Comments