Thursday, March 14, 2019

National Saving Certificate | NSC in Hindi

National Saving Certificate full information in hindi

राष्ट्रीय बचत प्रमाण पत्र (NSC) क्या होता है ?

इसमें निवेशने के क्या लाभ है ? 

NSC में कौन निवेश कर सकता है ?


अगर आप इन सभी सवाल के जवाब ढूंढ रहे है तो आप सही जगह पर आए है।


जो लोग अपनी राशि को अच्छे ब्याज के लिए निवेश करना चाहते है, लेकिन उन्हें शेयर बाजार में नहीं जाना चाहते  उन लोगो के लिए NSC बहुत ही अच्छी योजना है।



NSC (National Saving Certificate) क्या है ?


NSC यानि National Saving Certificate सरकार द्वारा चलाई जाने वाली बचत की योजना है।

जिस योजना के तहत आप अपने पैसे सरकार को ऋण (Loan) के रूप में देते है। 


और इसके बदलें में सरकार आपको निश्चित ब्याज देती है।


इस योजना में निवेश NSC के प्रमाण पत्र को खरीद कर किया जाता है।


NSC कौन खरीद सकता है ?


हर वो व्यक्ति जो की भारत का नागरिक है वह NSC खरीद सकता है। 

NSC आप अपने बच्चो के नाम से भी खरीद सकते है।


लेकिन NRI या किसी और देश का नागरिक इसमें निवेश नहीं कर सकता।


हम National Saving Certificate कहा से खरीद सकते है ?


पहले NSC को सिर्फ डाक घर (Post Office) के द्वारा ही खरीदा जा सकता था।

जिस से आपको पोस्ट ऑफिस में जा कर NSC के लिए आवेदन करना पड़ता था।


लेकिन कुछ साल पहले NSC को बेचने की अनुमति सभी सरकारी बैंक तथा तीन निजी बैंक को मंजूरी दी गई है।


इन तीन बैंको में HDFC Bank , ICICI Bank और Axis Bank सामिल है।


जिसके बाद आप इन सभी बैंको के द्वारा ऑनलाइन भी NSC के लिए आवेदन कर सकते है।


इसके लिए आपका उस बैंक में बचत खाता होना जरुरी है।


आप अपनी इंटरनेट बैंकिंग के द्वारा NSC के लिए आवेदन कर सकते है।


NSC में निवेश की समय अवधि कितनी है ?


NSC में निवेश की अवधि 5 साल की है।

कुछ सालो पहले तक यह समय 5 और 10 साल दोनों की थी।


लेकिन उसके बाद इसे सिर्फ 5 साल की ही कर दी गई है।


ध्यान दे : NSC में निवेश की गई राशि 5 साल के लिए लॉक हो जाती है। 


मतलब निवेश की गई राशि आप 5 साल पुरे होने से पहले नहीं निकाल सकते।


सिर्फ कुछ ही परिस्थितिओ में इस में से समय अवधि के पहले पैसा निकाला जा सकता है।


अगर NSC खरीदने वाले की मौत हो जाए तो यह राशि समय से पहले मिल सकती है।


या फिर कोर्ट के आदेश से ही यह राशि समय अवधि ख़त्म होने के पहले मिल सकती है।


हम कितनी राशि से National Saving Certificate खरीद सकते है ?


NSC में निवेश की राशि न्यूनतम 100 रूपए से शुरू होती है।

इस में आप चाहे इतनी राशि से NSC खरीद सकते है। लेकिन यह राशि 100 के गुणक में होनी चाहिए।


NSC में निवेश करने के लाभ क्या है ?


NSC में निवेश करने के बहुत सारे लाभ है। 

जिन में ,

1. जोखिम नहीं होता :


अगर आप कोई बैंक में अपनी राशि निवेश करते है और अगर किसी वजह से वह बंध होने की कगार पर आ जाती है तो आपकी उस बैंक में जमा राशि की सिर्फ 1 लाख तक की राशि की ही गॅरंटी होती है।

लेकिन NSC सरकार द्वारा दिया जाता है।


इस लिए NSC में निवेश की हुई राशि और उस पर मिलने वाले ब्याज की 100 प्रतिशत की गॅरंटी सरकार द्वारा दी जाती है।


जिस से इसमें निवेश करने पर कोई जोख़िम नहीं होता।


2. ब्याज़ निश्चित मिलता है :


NSC में निवेश करते समय जो ब्याज निश्चित किया जाता है, वही ब्याज पूरी निवेश की अवधि में मिलता रहता है।

अगर बाकि ब्याज दर बदल भी जाए तो भी आपको मिलने वाला ब्याजदर निवेश की पूरी अवधि में समान ही रहता है।


उदहारण के तौर पर अगर किसी साल आपने NSC में कुछ राशि निवेश की और तब का ब्याज दर 9 प्रतिशत था। 


और अगर उसके एक साल बाद ब्याज दर कम हो गया है तो भी आपको अपने निवेश पर 9 प्रतिशत ही ब्याज मिलेगा।  


यह ब्याज का दर हर तिमाही के अंत में बदलता रहता है। 


यह सरकार द्वारा तय किया जाता है।


अभी यह ब्याज दर 8 प्रतिशत है जो की अभी की स्थिति में बहुत बढिया है।



3. टैक्स के लाभ :


NSC में निवेश करने पर दो तरह से टैक्स लाभ मिलता है।


1) NSC में निवेश की गई 1.5 लाख तक की राशि सेक्शन 80C के तहत आप अपने टैक्स भरने की आई से कम कर सकते है।

मतलब आपको Section 80C के तहत NSC में 1.5 लाख तक tax deduction मिलता है।


2) NSC में मिलने वाले ब्याज पर भी टैक्स नहीं लगता।


( ध्यान दे : निवेश के 4 साल में मिले ब्याज पर ही टैक्स नहीं देना होता। 


(पांचवे साल) जब निवेश की वधि ख़त्म होती है तब मिलने वाले ब्याज पर टैक्स चुकाना पड़ता है। )


4 . बैंक से लोन ले सकते है :


NSC में निवेश करने का एक लाभ यह भी है की आप किसी भी बैंक में NSC को गिरवी रख कर  लोन ले सकते है। 

आपको कितना लोन मिलेगा यह तो अलग अलग बैंक पर निर्भर करता है।


लोन चुकाने के बाद आपको आपकी NSC वापिस मिल जाएगी।



5. TDS नहीं कटता है :


अगर FD में मिलने वाला ब्याज 10 हजार से ऊपर हो तो जैसे TDS बैंक के द्वारा ही काट लिया जाता है। 

लेकिन National Saving Certificate में निवेश करने पर मिले हुए ब्याज पर कोई TDS नहीं कटता।


NSC में निवेश करने के नुकसान क्या है ?


National Saving Certificate में निवेश के कुछ नुकसान भी है।

जिसमे,

1.समय अवधि से पहले पैसा नहीं निकाल सकते  :

 National Saving Certificate में निवेश करने का सबसे बड़ा नुकसान यह है की एक बार निवेश की हुई राशि आप 5 साल (लॉक इन समय) ख़त्म होने के पहले नहीं निकाल सकते।

 सिर्फ कुछ ही परिस्थितिओ में इस में से समय अवधि के पहले पैसा निकाला जा सकता है। 


 अगर NSC खरीदने वाले की मौत हो जाए तो यह राशि समय से पहले मिल सकती है।


 या फिर कोर्ट के आदेश से ही यह राशि समय अवधि ख़त्म होने के पहले मिल सकती है।


 2. पांचवे साल में टैक्स लगता है :


 National Saving Certificate में निवेश करने का दूसरा नुकसान यह है की मिलने वाला ब्याज सिर्फ 4 साल तक ही टैक्स के छूट में है।


 पांचवे साल मिलने वाले ब्याज पर टैक्स भरना पड़ता है।


क्या हमें NSC में निवेश करना चाहिए ?


आपको National Saving Certificate में निवेश करना चाहिए या नहीं यह तो आपको तय करना है।

लेकिन में यह जरूर कहूंगा की जो लोग शेयर बाजार में पैसा निवेश किए बिना अपने निवेश पर अच्छा ब्याज बिना जोखिम के कमाना चाहते है वह लोग जरूर NSC में निवेश कर सकते है।


निवेश से पहले यह जरूर सोच ले की निवेश की गई राशि निवेश की अवधि ख़त्म होने तक वापिस नहीं मिल सकती।


तो दोस्तों यह थी NSC या फिर National Saving Certificate के बारे में परइ जानकारी।


अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे अपने मित्रो के साथ भी Share करे।





Disqus Comments